बिटकॉइन Bitcoin और क्रिप्टोकोर्रेंसी Cryptocurrency क्या है ? क्रिप्टोकोर्रेंसी और बिटकॉइन में कैसे निवेश करें और कैसे कमाए करें ?

2019  में मेरा एक ख़ास दोस्त राहुल बिटकॉइन Bitcoin और क्रिप्टोकोर्रेंसी Cryptocurrency में Invest और Earn करता थ। मगर मुझे ये माजरा कभी समझ नहीं आया की होता क्या है आखिर बिटकॉइन Bitcoin और क्रिप्टोकोर्रेंसी Cryptocurrency और इसमें किसतरह इन्वेस्ट और कमाया जाता है ?

लेकिन कहीं न कहीं मेरी भी रूचि बिटकॉइन और क्रिप्टोकोर्रेंसी की तरफ बढ़ने लगी क्युकी में भी कमाना चाहता था। और आज 2021 में सब लोग यह जानना चाहते हैं की बिटकॉइन & क्रिप्टोकोर्रेंसी में किस तरह से निवेश किआ जाए और किस तरह से कमाया जाए ? मेरे दोस्त को देखते हुए मैंने भी बिटकॉइन और क्रिप्टोकोर्रेंसी के बारे में पढ़ना और समझना शुरू किआ और मेरे दोस्त राहुल ने मेरी बिटकॉइन और क्रिप्टोकोर्रेंसी को समझने में भी मदद की। 

बिटकॉइन Bitcoin और क्रिप्टोकोर्रेंसी Cryptocurrency क्या है ? क्रिप्टोकोर्रेंसी और बिटकॉइन में कैसे निवेश करें और कैसे कमाए करें ?


धीरे धीरे में बिटकॉइन Bitcoin और क्रिप्टोकोर्रेंसी Cryptocurrency की बारीकी समझने लगा। 
अभी के दौर में बिटकॉइन और क्रिप्टोकोर्रेंसी सामान्य सी बात होगयी है और शायद इसलिए भी बिटकॉइन Bitcoin और क्रिप्टोकोर्रेंसी Cryptocurrency इतना ज्यादा इंटेरेस्टिंग बन चूका है की हर कोई बिटकॉइन और क्रिप्टोकोर्रेंसी के बारे में जानना चाहता है। और यह एक अछि बात है। इसलिए में आपके साथ बिटकॉइन और क्रिप्टोकोर्रेंसी की हर एक बात बताने वाला हु की ये किस तरह काम करता है , आखिर है क्या चीज़ और इस्स्में किस तरह इन्वेस्ट और एअर्निंग करें। 

बिटकॉइन और क्रिप्टोकोर्रेंसी को समझने के लिए आपको एक कहानी सुनाता हु जिससे आपको बिटकोई Bitcoin और क्रिप्टोकोर्रेंसी Cryptocurrency और अच्छे से समझ आये। 
2 दोस्त थे मुकुल और विपुल । मुकुल ने विपुल से 10 रूपये का काम कराया और 10 रूपये देने की जगह मुकुल ने विपुल को एक चॉकलेट देदी और बोलै की 10 रूपये की ये चॉकलेट रखले। फिर विपुल और मुकुल ने सोचा की चीज़ें सिंपल रहे , 10  रूपये हिसाब किताब डिजिटल  रहे।  कल को हमआरी दोस्ती भी ख़त्म हो तो हिसाब किताब में कोई गड़बड़ न हो। विपुल ने आगे कहा की एक काम करते है की इस चॉकलेट को डिजिटल चॉकलेट बना लेते हैं। अब चॉकलेट को डिजिटल वर्शन Digital Version तोह बना लेंगे लेकिन यहाँ पर एक समस्या है की ये डिजिटल है इससे कोई भी कॉपी Copy कर सकता है, कोई भी multiply कर सकता है, एक के सौ बना सकता है और ऐसे फ्रॉड हो होजायेगा। 

लेकिन इसका एक सलूशन हैं की जैसे ही मुकुल ने विपुल को डिजिटल चॉकलेट दी उसी समय कंप्यूटर Computer के डॉक्यूमेंट Document में नोट बना लिए जाए की मुकुल ने विपुल को 10 रूपये की चॉकलेट दी है। अब गौर कीजिये की इस डॉक्यूमेंट में हिसाब रखने वाली चीज़ को कहते है लेड़गेर Ledger। 
अब ये जो लेड़गेर (Ledger) है ये एक जन मेन्टेन कर रहा है , वो चाहे तो इसमें गड़बड़ कर सकता है, ये डॉक्यूमेंट उसके फुल कण्ट्रोल Control में है वो इसके साथ कुछ भी छेड़खानी कर सकता है। 

अब यहाँ पर एक क्रांतिकारी सलूशन है, की अगर ये लेड़गेर (Ledger) हर कंप्यूटर में स्टोर हो रहा हो, हर कंप्यूटर Computer में हिसाब हो रहा हो की टोटल डिजिटल चॉकलेट कितनी हैं, मुकुल के पास कितनी है, विपुल के पास कितनी हैं, अब मुकुल ने विपुल को एक डिजिटल चॉकलेट दी थी तोह अब मुकुल के पास कितनी डिजिटल चॉकलेट और बची और विपुल के पास कितनी डिजिटल चॉकलेट हो गयी। 

अगर ये हिसाब हर कंप्यूटर Computer में हो रहा होगा, तोह कोई भी एक जन हिसाब में गड़बड़ करेगा तो सारे कम्प्यूटर्स में अलर्ट हो जाएगा और हिसाब में गड़बड़ करने वाला व्यक्ति पकड़ा जाएगा। 

अब मुकुल और विपुल के उदाहरण को लेते हुए हम बिटकॉइन Bitcoin और क्रिप्टोकोर्रेंसी Cryptocurrency के सभी कॉन्सेप्ट्स को आसानी से समझते जाएंगे। स्वागत करता हु आपका क्विज़मार्केट में और चलिए शुरू करते हैं।

क्रिप्टोकोर्रेंसी Cryptocurrency क्या है ? क्रिप्टोकोर्रेंसी में कैसे निवेश करें और कमाई करें ?

अब ये जो डिजिटल चॉकलेट थी जो मुकुल और विपुल ने आपस में शेयर की थी इसी को क्रिप्टोकोर्रेंसी कहते हैं, क्रिप्टो का मतलब होता है सीक्रेट  (गुप्त) और करेंसी का मतलब होता है वस्तुओं और सेवाओं की खरीद का माध्यम। 
Crypto means Secret, Currency means Medium of Purchase of Goods and Services.

तोह एक प्राइवेट करेंसी Private Currency एक गुप्त करेंसी Secret Currency को क्रिप्टोकोर्रेंसी Cryptocurrency कहा जाता है। 
दोस्तों बिटकॉइन Bitcoin भी एक तरह की क्रिप्टोकोर्रेंसी Cryptocurrency ही है या यूँ बोले की एक तरह की प्राइवेट करेंसी Private Currency या गुप्त करेंसी ही है Secret Currency। 

दोस्तों रिप्पल Ripple, एथेरियम Etherium, डोगेकोईन Dogecoin, यह भी एक तरह की क्रिप्टोकोर्रेंसी Cryptocurrency ही हैं।

क्रिप्टोकोर्रेंसी कैसे काम करता है ? How does Cryptocurrency works ?

Cryptocurency क्रिप्टोकोर्रेंसी एक प्राइवेट डिजिटल करेंसी Private Digital Currency है। 
और ये जो पब्लिक लेड़गेर Public Ledger है इससे बहुत सारे कम्प्यूटर्स मेन्टेन कर रहे हैं, बहुत सारे लोग मिलकर इस लेड़गेर Ledger को मेन्टेन Maintain करते हैं औरर इससे पीर to पीर नेटवर्क Peer To Peer Network कहते है। यानि पर्सन तो पर्सन नेटवर्क Person To Person Network, कई सारे लोग कम्प्यूटर्स पर मिल कर उस लेड़गेर Ledger को मेन्टेन Maintain कर रहे हैं। और ये लेड़गेर Ledger किसी एक जन या एक कंप्यूटर Computer का नहीं है, वो अनेक Persons का लेड़गेर Ledger है। 

और ये कैसे मेन्टेन Maintain होता है उसके पीछे है एक रेवोलूशनरी टेक्नोलॉजी Revolutionary Technology, जिससे कहते हैं ब्लॉकचैन Blockchain

ब्लॉकचैन Blockchain क्या है और कैसे काम करता है ? क्रिप्टोकोर्रेंसी में ब्लॉकचैन क्या और कैसे काम करता है ?

ब्लॉकचैन Blockchain तो शब्दों से मिलकर बना है ब्लॉक Block और चैन Chain, जैसे ट्रैन में कई डिब्बे होते हैं, एक डब्बा भर गया तो दूसरा लगा दिए, दूसरा भर गया तो तीसरा लगा दिए, तीसरा लगा दिए तोह चौथा लगा दिए, इसी तरह से ये ब्लॉकचैन Blockchain काम करता है, क्रिप्टोकोर्रेंसी Cryptocurrency की एक ट्रांसक्शन Transaction भर गयी तो अगला ब्लॉक उसके साथ जोड़ दिए जाता है, फिर उससे अगली ट्रांसक्शन भर गयी तो उससे अगला वाला ब्लॉक उसके साथ जोड़ दिए। और हर ब्लॉक में जो ट्रांसक्शन शुरू होती है वो पिछली ब्लॉक के ट्रांसक्शन के साथ जुडी होती है। मतलब सारी ट्रांसक्शन्स Transaction आपस में कनेक्टेड हैं। हर ब्लॉक चैन की तरह आपस में कनेक्टेड Connected है। ये ब्लॉक चैन सिर्फ एक कंप्यूटर Computer में नहीं, बल्कि मिलियंस ऑफ़ कम्प्यूटर्स में पूरी पारदर्शिता Transparency के साथ उपलब्ध होते हैं, तोह ऐसे में अगर कोई चीट करना चाहे तो वो तुरंत ट्रैक Track हो जाता है। 

चलिए एक उदाहरण से ये समझते हैं :-

मुकुल और विपुल दोनों के पास क्रिप्टोकोर्रेंसी Cryptocurrency हैं, मानलो मुकुल के पास 2 बिटकॉइन हैं और उसने अपने 2 बिटकॉइन Bitcoin में से 1 बिटकॉइन विपुल को दे दिए। अब सारे कम्प्यूटर्स फटाफट काम पर लग्ग जाते है और चेक करते हैं की क्या सचमें मुकुल के पास 2 बिटकॉइन है, और अब उसने 1 बिटकॉइन विपुल को दे दिए तो उसके पास सिर्फ एक ही बिटकॉइन बचा। ये सारा डाटा कंप्यूटरस बहुत रेजी से चेक करते है और निष्कर्ष पर आते हैं, ये सारा काम मिल्लीसेकण्ड्स में होजाता है। क्रिप्टोकोर्रेंसी की दुनिया में इसी टेक्नोलॉजी को जिससे ये सब लेनदेन का डाटा Ledger जोड़ा जाता है  ब्लॉकचैन कहा जाता है, और इसी प्रकार इस टेक्नोलॉजी का क्रिप्टोकोर्रेंसी जगत में उपयोग होता है।

क्रिप्टोकोर्रेंसी वर्ल्ड में माइनर Minor किसे कहते हैं ? Who is called Minor in Cryptocurrency world ? क्रिप्टोकोर्रेंसी वर्ल्ड में माइनिंग  Mining किसे कहते हैं ?

जो भी लोग इस पब्लिक लेड़गेर Public Ledger को मेन्टेन Maintain कर रहे हैं, इसकी निगरानी Look After कर रहे हैं, उन्हें  कहते हैं मिनर्स Minors। और इस ट्रांसक्शन Transaction, इस प्रोसेसस Process को validate करना उससे कहते हैं माइनिंग Mining।ये किसी को बैठ के नहीं करना होता , ये सब कुछ काम सिस्टम जनरेटेड System Generated होता है, कम्प्यूटर्स ऑटोमेटिकली Automatically सारा काम खुद करते हैं, मगर माइनिंग Mining के इस काम में सुपर कम्प्यूटर्स Super Computers का उपयोग होता और हाई सॉफ्टवर्स High Softwares का भी इस्तेमाल होता है । 

क्रिप्टोकोर्रेंसी Cryptocurrency क्या है



क्रिप्टोग्राफ़ी Cryptography क्या है ? क्रिप्टोग्राफ़ी कैसे काम करता है ?

क्रिप्टोकोर्रेंसी Cryptocurrency का बहुत ही मजबूत स्तम्भ है क्रिप्टोग्राफ़ी Cryptography। क्रिप्टोग्राफ़ी मतलब सबकुछ कोडेड है । क्रिप्टोग्राफ़ी में हर चीज़ का कोड बनता है। 
क्रिप्टोकोर्रेंसी Cryptocurrency की भाषा है क्रिप्टोग्राफ़ी Cryptography । 

क्रिप्टोग्राफ़ी Cryptography  ही बहुत बड़ी शुरुआत है क्रिप्टोकोर्रेंसी Cryptocurrency की शुरुआत का और क्रिप्टोकोर्रेंसी की बढ़ती लोकप्रियता का क्युकी कई लोगो की शिकायत थी की अगर पैसा उनका, कॅश Cash उनका , सबकुछ उनका फिर भी बैंक उनपर नजर बनाये रखता है। उनके सारे फंड्स और पैसे पर गवर्नमेंट Government नजर रखती है उनके हर ट्रांसक्शन पर गवर्नमेंट की नजर होती है। गवर्नमेंट जब चाहे इन्फ्लेशन बढ़ादे, रुपया Rupee की वैल्यू घटादे , डॉलर Dollar की वैल्यू Value बढ़ गयी। तोह ये साऱी समस्या होने लगी थी लोगो को की पैसा हमारा फिर भी कण्ट्रोल दूसरे का। 

लोगो को लगा की ऐसा क्यों नहीं हो सकता की करेंसी ही डेंटरलिज़्ड Decentralized हो जाए। मतलब किसी एक का कण्ट्रोल न हो।  जब करेंसी Currency सबकी है तो कण्ट्रोल भी सबका हो। 

हमारे पास कितना पैसा है वो बैंक में बैठे लोगो को क्यों पता हो, गवर्नमेंट और अथॉरिटीज Authorities को क्यों पता हो ? इसलिए क्रिप्टोग्राफ़ी Cryptography की मदद से क्रिप्टोकोर्रेंसी लाया गया जिसमें सबका अधिकार ह, किसी एक जन का कण्ट्रोल नहीं है, सबका कण्ट्रोल है, ट्रांसक्शन्स ट्रांसपेरेंट Transparent है, औरर कोई भी बेईमानी नहीं कर सकता क्युकी पब्लिक लेड़गेर Public Ledger सुपर कंप्यूटर में उपलब्ध है। 

बिटकॉइन Bitcoin और क्रिप्टोकोर्रेंसी Cryptocurrency की कीमत Price कैसे तय Decide की जाती है ?

दोस्तों, में आपको बता दूँ की हर क्रिप्टोकोर्रेंसी Cryptocurrency जैसे की बिटकॉइन Bitcoin , एथेरियम Ethereum, डोगेकोईन Dogecoin में पहले से तय होता है की कुल कॉइंस कितने होंगे। और जब कोई चीज़ फिक्स्ड होती है , या फिर लिमिटेड होती है , तो उसकी प्राइस स्वतः ही आसमान छूने लगती है।  तो दोस्तों क्रिप्टोकोर्रेंसी में कॉइंस की संख्या लिमिटेड है इसलिए क्रिप्टोकोर्रेंसी Cryptocurrency इतना मेहेंगा है। क्रिप्टोकोर्रेंसी की कीमत उसकी डिमांड से तय की जाती है, और लिमिटेड क्रिप्टोकोर्रेंसी होने किन वजह से इसकी कीमत बहुत बहुत ज्यादा है। 

बिटकॉइन Bitcoin और क्रिप्टोकोर्रेंसी Cryptocurrency इतना मेहेंगा Expensive क्यों है ?

क्रिप्टोकोर्रेंसी में कोइंस Coins की संख्या लिमिटेड Limited होने की वजह से , क्रिप्टोकोर्रेंसी इतना मेहेंगा है। बिटकॉइन , डोगेकोईन, एथेरियम ये सब भी एक तरह की क्रिप्टोकोर्रेंसी ही हैं। इनकी भी संख्या लिमिटेड है , इसलिए क्रिप्टोकोर्रेंसी, बिटकॉइन, एथेरियम, डोगेकोईन  इतने महंगे होते है। 

क्रिप्टोकोर्रेंसी Cryptocurrency और बिटकॉइन Bitcoin के दाम Price घटते बढ़ते Increase-Decrease क्यों रहते है ?

दोस्तों, जैसा की आपको पहले बताया की विश्व में क्रिप्टोकररेंइस की संख्या लिमिटेड Limited ही है। तोह जब भी विश्व में क्रिप्टोकोर्रेंसी या बिटकॉइन की डिमांड Demand ज्यादा होती है तो क्रिप्टोकोर्रेंसी या बिटकॉइन का मूल्य आसमान छूने लगता है। और जब भी क्रिप्टोकोर्रेंसी या बिटकॉइन की डिमांड घटने लगती है तो इसका मूल्य कम होने लगता है।   
Demand increases Crytocurrency Prices Increases.
Demand decreases Crytocurrency Prices decreases.

2010 में बिटकॉइन Bitcoin 20 रुपया का था, बीच में ये 40-45 लाख रुपया का होगया था लेकिन अभी 2021 में इसकी कीमत है 30 लाख रुपया है। 
मतलब अगर किसी व्यक्ति ने 2010 में बिटकॉइन Bitcoin में 10 रुपया लगाए होते, तो आज की तारीख में उसके पास डेढ़ करोड़ रूपये होते और आज वो व्यक्ति crorepati होता। 

दोस्तों क्रिप्टोकोर्रेंसी के मूल्य इस बात पर भी निर्भर करते है की न्यूज़ में क्या चलन रहा है। कपंनी क्या बातें करर रही है।  अगर न्यूज़ में क्रिप्टोकोर्रेंसी की बात होती है तो इसका दाम अपने आप बढ़ने लगता है क्युकी लोग क्रिप्टोकोर्रेंसी खरीदना शुरू कर देते है, औरर जब मार्किट में क्रिप्टोकोर्रेंसी की बातचीत बंद हो जाती है तो इसके दाम निचे गिरने लगता है। 

क्रिप्टोग्राफ़ी Cryptography क्या है ? क्रिप्टोग्राफ़ी कैसे काम करता है ?



Musk Dip क्या है ? मुश्क दिप Musk Dip किसे कहते हैं ?

टेस्ला, इंक. पालो ऑल्टो, कैलिफोर्निया में स्थित एक अमेरिकी इलेक्ट्रिक वाहन और स्वच्छ ऊर्जा कंपनी है। टेस्ला Tesla Cars के मालिक Elon Musk ने मार्च 2021 में कहा की टेस्ला बिटकॉइन Bitcoin एक्सेप्ट करेगा कार खरीदने के लिए , तोह उसी माह बिटकॉइन Bitcoin के प्राइस Price बहुत ज्यादा बढ़ गए और मई में Elon Musk ने कहा की टेस्ला Tesla Cars बिटकॉइन एक्सेप्ट नहीं करेगा। तो बिटकॉइन Bitcoin के दाम गिरने शुरू हो गए। 

 Elon Musk की March 2021 में  इस स्टेटमेन्ट के बाद बिटकॉइन Bitcoin का प्राइस 60,000 डॉलर्स तक पहुंच गया था।  और मई 2021 में इसका प्राइस 30,000 डॉलर्स पर आके गिर गया। 
इसी बिटकॉइन Bitcoin के बढ़ने को गिरावट को मुश्क दिप Musk Dip कहा गया। 


क्रिप्टोकोर्रेंसी Cryptocurrency के फायदे Advantages ? Bitcoin बिटकॉइन, एथेरियम Etherium, डोगेकोईन Dogecoin के फायदे Advantages ?

1. डेंटरलिज़्ड Decentralized (विकेन्द्रीकृत) :

क्रिप्टोकोर्रेंसी जैसे की डोगेकोईन,बिटकॉइन,एथेरियम का पहला फायदा यह है की ये डेंटरलिज़्ड है (विकेन्द्रीकृत) है। कोई एक कंट्री, कोई एक बैंक , कोई एक अथॉरिटी , कोई एक पावर या कोई एक जन इसको नियंत्रित नहीं कर रही। क्रिप्टोकोर्रेंसी सबके साथ ह, सबके लिए है, किसी एक का नहीं है। क्रिप्टोकोर्रेंसी परर सबका कण्ट्रोल है। 

2. कोई सरकारी नियंत्रण नहीं No Government Control :

क्रिप्टोकोर्रेंसी Cryptocurrency में इन्वेस्ट Invest करने पर सबसे बड़ा फायदा Benefit लोगो को यह मिलता है की क्रिप्टोकोर्रेंसी Cryptocurrency को किसी तरह की कोई गवर्नमेंट कण्ट्रोल Government Control नहीं कर रही होती। क्रिप्टोकोर्रेंसी फुल्ली इंडेपेंड Fully Independant होकर काम करती है। गवर्नमेंट के निर्णय की वजह से उनका पैसा एफेक्ट Affect नहीं हो रहा होता।   

3. ब्लॉकचेन सुरक्षा Blockchain Safety :

ब्लॉकचैन Blockchain सुरक्षा की वजह से क्रिप्टोकोर्रेंसी Cryptocurrency बहुत ही ज्यादा सेफ हो जाती है, ब्लॉकचैन सुरक्षा की वजह से ये एक दम ट्रांसपेरेंट है, कोई भी हिसाब किताब में किसी भी तरह की गड़बड़ नहीं कर सकता। 

आने वाले समय में ब्लॉकचैन सुरक्षा का उपयोग हर छेत्र में होने लगेगा जैसे की एजुकेशन Education, हैल्थकारे Healthcare, डाटा मैनेजमेंट Data Management , और भी कई अलग अलग छेत्र में क्रिप्टोकोर्रेंसी ब्लॉकचैन Cryptocurrency Blockchain जैसा ही इस्तेमाल होने लगेगा। 

Musk Dip क्या है ? मुश्क दिप Musk Dip किसे कहते हैं ?



क्रिप्टोकोर्रेंसी Cryptocurrency के नुकसान Disadvantages ? Bitcoin बिटकॉइन, एथेरियम Etherium, डोगेकोईन Dogecoin के नुकसान Disadvantages ?

1. कोई सरकार और अधिकार नहीं No Government and Authority :

क्रिप्टोकोर्रेंसी की दुनिया में किसी तरह की कोई गवर्नमेंट या अथॉरिटी काम नहीं करती , ये पूरी तरह आत्मनिर्भर है, ये ब्लॉकचैन टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करता है। अगर आपको कोई समस्या आती है तो आप किसके पास जाओगे , ये बहुत बड़ी समस्या है क्रिप्टोकोर्रेंसी की दुनिया में। इसका फायदा भी है तो इसका नुकसान भी है। 

2. Unethical Use 

क्युकी क्रिप्टोकोर्रेंसी एक सीक्रेट या गुप्त करेंसी है तो लोग इसका इस्तेमाल कई अनैतिक कार्यो में करते है। जोकि निंदनीय है। और गलत भी। 

3. पर्यावरण के अनुकूल नहीं Not Eco-Friendly

क्रिप्टोकोर्रेंसी Cryptocurrency के माइनिंग Mining प्रक्रिया में बहुत ज्यादा पावर इस्तेमाल होती है, भारी बिजली का इस्तेमाल होता है। जोकि पर्यावरण के लिए बेहद खतरनाक है। बहुत ज्यादा रिसोर्सेज का इस्तेमाल होता है, जोकि हानिकारक है। में फ्यूचर के लिए ऐसे आशा करता हु की इसके लिए बिजली बचने के लिए  कुछ ठोस कदम उठाये जाएंगे। 

क्या क्रिप्टोकोर्रेंसी Cryptocurrency इंडिया India में लीगल Legal है ? 

हाँ Yes ! दोस्तों , क्रिप्टोकोर्रेंसी Cryptocurrency जैसे बिटकॉइन Bitcoin, रिप्पल Ripple, डोगेकोई Dogecoin, एथेरियम Etherium इत्यादि भारत (इंडिया) India में लीगल Legal है। 

भारत में क्रिप्टोकोर्रेंसी लीगल है, आप क्रिप्टोकोर्रेंसी में इन्वेस्ट कर सकते हैं, मगर ये अभी तक " पैसे की कानूनी निविदा " "Legal Tender of Money" नहीं है। मतलब भारत में आप इसको पैसे की जगह इस्तेमाल नहीं कर सकते। भारत में क्रिप्टोकोर्रेंसी Cryptocurrency में सिर्फ Invest, Hold, ट्रेड Trade करना लीगल है, मगर आप इससे पैसे की जगह इस्तेमाल नहीं कर सकते। 

कुछ देशो में क्रिप्टोकोर्रेंसी को " पैसे की कानूनी निविदा " "Legal Tender of Money" माना जाता है, मतलब आप वहां क्रिप्टोकोर्रेंसी Cryptocurrency से कुछ बी खरीद बेंच सकते है, मगर भारत India में ये चीज़ नहीं है। 

क्रिप्टोकोर्रेंसी Cryptocurrency जैसे बिटकॉइन Bitcoin, एथेरियम Etherium, डोगेकोईन Dogecoin में कैसे इन्वेस्ट Invest और एअर्निंग Earning करें ?

दोस्तों, अगर आप क्रिप्टोकोर्रेंसी Cryptocurrency जैसे बिटकॉइन Bitcoin, एथेरियम Etherium, डोगेकोईन Dogecoin में कैसे इन्वेस्ट Invest और एअर्निंग Earning करना चाहते है, तो आप Coindcx Go App को इंस्टॉल कर सकते हैं।  

2020, में सुप्रीम कोर्ट ने भारतीय बैंकस को क्रिप्टोकोर्रेंसी Cryptocurrency में ट्रेड Trade और इन्वेस्ट Invest करने की अनुमति दे दी थी, मात्र उसके 6 घंटे बाद ही, पहली एप्लीकेशन थी CoinDCX Go App जिसने सभी भारतीय बैंक्स के साथ कोलैबोरेशन Collaboration कर लिए था। 

CoinDCX Go App का आसान वर्शन है CoinDCXGo ये अप्प App में आपके साथ इसलिए शेयर कर रहा हु क्युकी इसके अंदर आपसे कोई भी ट्रांसक्शन Transaction फी नहीं ली जायेगी। ये ISO सर्टिफाइड है। CoinDCX Go App I.S.O के सारे प्रोसेदूरेस को फॉलो करता है। 

सबसे जरूरी चीज़ इसमें रजिस्टर करने CoinDCX Go App वाले सभी उसेर्स को सेफ्टी मिलती है, बिटगो Bitgo की तरफ से। बिटगो Bitgo एक लीडिंग डिजिटल कंपनी है।  

क्रिप्टोकोर्रेंसी Cryptocurrency जैसे बिटकॉइन Bitcoin, एथेरियम Etherium, डोगेकोईन Dogecoin में कैसे इन्वेस्ट Invest और एअर्निंग Earning करें ?


बिटकॉइन Bitcoin और क्रिप्टोकोर्रेंसी Cryptocurrency क्या है निष्कर्ष Conclusion :

तोह दोस्तों, आप लोगो ने देखा की , हम लोग किस तरह से क्रिप्टोकोर्रेंसी Cryptocurrency जैसे की बिटकोई, एथेरियम, डोगेकोईन, रिप्पल, में इन्वेस्ट Invest करके कमा सकते है। आपने इस पोस्ट Post के माध्यम से क्रिप्टोकोर्रेंसी Cryptocurrency के बेसिक्स Basics और एडवांस्ड Advanced दोनों सीख लिए होंगे साथ ही क्रिप्टोकोर्रेंसी से जुडी सभी महत्वपूर्ण टर्म्स Terms भी सीख लिए होंगे।

अंत में आशा करता हु की क्विज़मार्केट Quizmarket.in की तरफ से पोस्ट "बिटकॉइन Bitcoin और क्रिप्टोकोर्रेंसी Cryptocurrency क्या है ? क्रिप्टोकोर्रेंसी और बिटकॉइन में कैसे निवेश करें और कैसे कमाए करें" आप लोगो पसंद आया होगा। 

कृपया कमेंट करके अवश्य बताएं, अपने प्रश्न कमेंट बॉक्स में लिखदे हम उत्तर देंगे। 
ये क्रिप्टोकोर्रेंसी Cryptocurrency से जुडी महत्वपूर्ण जानकारी अपने दोस्तों और फेसबुक fb,इंस्टाग्राम  ig,व्हाट्सप्प wpपर अवस्य शेयर करें। 


Tags